Viral Photos and Videos, Lifestyle, Travel, Food and Fun -Brands
Instafeed

Travel Tips: प्रेग्नेंसी के दौरान यात्रा करते वक्त इन 5 बातों का जरूर रखें ध्यान

Travel Tips: प्रेग्नेंसी के दौरान यात्रा करते वक्त इन 5 बातों का जरूर रखें ध्यान


प्रेग्नेंसी में होने वाली मां को कई तरह की बातों का ध्यान रखना होता है। वो किस तरह से चल रही है, कैसे उठ-बैठ रही है, क्या खा रही है, क्या पी रही है? इस तरह की बहुत सारी चीजें होती हैं जिस पर एक्सट्रा फोकस होता है। और जब बात प्रेग्नेंसी में सफर करने की आती है तब तो आपको एक्सट्रा सावधान रहने की जरूरत होती है। ऐसे में आप अपनी बेबीमून की प्लानिंग कर रही हों या फिर छुट्टियों में रिश्तेदारों के घर जाने के बारे में सोच रही हों, प्रेग्नेंसी में यात्रा करने के दौरान बहुत सी बातें हैं जिनका ध्यान रखना होता है।

वैसे तो अगर आपकी प्रेग्नेंसी में किसी तरह का रिस्क नहीं है तो आपके लिए ट्रैवल करना पूरी तरह से सेफ माना जाता है। बावजूद इसके बेबी बंप के साथ ट्रैवल करने का एक्सपीरियंस काफी अलग होता है। इस दौरान आपको कई बार टॉइलट जाना पड़ता है, एक ही पोजिशन में बहुत देर तक बैठे नहीं रह सकतीं। इस तरह की कई बातें होती हैं जिनका ध्यान रखना होता है। ऐसे में प्रेग्नेंसी के दौरान अगर आप ट्रैवल करने के बारे में सोच रही हैं या फिर अगर इमरजेंसी में भी कहीं जाना पड़े तो इन 5 टिप्स को फॉलो करें।

1. ट्रैवल पीरियड सही से चुनें

प्रेग्नेंसी के पहले ट्राइमेस्टर यानी 1-3 महीने के दौरान जी मिचलाना, मॉर्निंग सिकनेस और कई तरह की दिक्कतें होती हैं और इस दौरान किसी भी तरह का रिस्क भी नहीं लेना चाहिए। प्रेग्नेंसी के तीसरे ट्राइमेस्टर 6-9 महीने के दौरान बेबी बंप बड़ा हो जाता है और महिला के लिए बैठना, उठना सब थोड़ा मुश्किल हो जाता है। इस लिहाज से सेकंड ट्राइमेस्टर यानी 3-6 महीने का वक्त ट्रैवल के लिहाज से सही है।

2. ध्यान से चुनें डेस्टिनेशन

प्रेग्नेंसी के दौरान आप कहां ट्रैवल कर रहे हैं उस डेस्टिनेशन को भी ध्यान से चुनें। कोई पहाड़ी वाली जगह या सुनसान और शांत जगह न चुनें। आप जहां जा रहे हों वहां की हवा की क्वॉलिटी अच्छी हो, पीने का पानी सेफ हो, बीमारियों का खतरा न हो, आसपास डॉक्टर या हॉस्पिटल मौजूद हो।

3. स्नैक्स और फ्लूइड्स साथ में कैरी करें

आप फ्लाइट से ट्रैवल कर रहे हों, ट्रेन से या फिर कार से बेहद जरूरी है कि आप अपने हेल्दी स्नैक्स और फ्लूइड्स को साथ रखें। लंबे वक्त तक भूखे या प्यासे रहने से शरीर में डिहाइड्रेशन का खतरा हो सकता है। इसलिए अपना नाश्ता और खाने-पीने की चीजें हमेशा साथ रखें।

4. जहां तक संभव हो कम सामान पैक करें

प्रेग्नेंट महिला का शरीर जल्दी थक जाता है। लिहाजा जहां तक संभव हो अपने सूटकेस को हल्का रखें और कम सामान पैक करें। प्रेग्नेंसी के दौरान आपका स्ट्रेस फ्री रहना औऱ रिलैक्स करना ज्यादा जरूरी है। इसलिए भारी सूटकेस खींचने की बजाए, ट्रैवल लाइट।

5. डॉक्टर से अप्रूवल है जरूरी

ट्रिप प्लान करने से पहले अपने डॉक्टर से पूछना न भूलें। डॉक्टर से परमिशन मिलने के बाद ही प्रेग्नेंसी में ट्रैवल करने का प्लान बनाएं। इसके अलावा अपना मेडिकल किट साथ ले जाना न भूलें। आपकी प्रेग्नेंसी में खाने वाली दवाइयों के साथ डॉक्टर से पूछकर सर्दी, खांसी बुखार में खाई जाने वाली कॉमन दवाइयां भी जरूर साथ में रखें।



Travel Tips: प्रेग्नेंसी के दौरान यात्रा करते वक्त इन 5 बातों का जरूर रखें ध्यान


प्रेग्नेंसी में होने वाली मां को कई तरह की बातों का ध्यान रखना होता है। वो किस तरह से चल रही है, कैसे उठ-बैठ रही है, क्या खा रही है, क्या पी रही है? इस तरह की बहुत सारी चीजें होती हैं जिस पर एक्सट्रा फोकस होता है। और जब बात प्रेग्नेंसी में सफर करने की आती है तब तो आपको एक्सट्रा सावधान रहने की जरूरत होती है। ऐसे में आप अपनी बेबीमून की प्लानिंग कर रही हों या फिर छुट्टियों में रिश्तेदारों के घर जाने के बारे में सोच रही हों, प्रेग्नेंसी में यात्रा करने के दौरान बहुत सी बातें हैं जिनका ध्यान रखना होता है।

वैसे तो अगर आपकी प्रेग्नेंसी में किसी तरह का रिस्क नहीं है तो आपके लिए ट्रैवल करना पूरी तरह से सेफ माना जाता है। बावजूद इसके बेबी बंप के साथ ट्रैवल करने का एक्सपीरियंस काफी अलग होता है। इस दौरान आपको कई बार टॉइलट जाना पड़ता है, एक ही पोजिशन में बहुत देर तक बैठे नहीं रह सकतीं। इस तरह की कई बातें होती हैं जिनका ध्यान रखना होता है। ऐसे में प्रेग्नेंसी के दौरान अगर आप ट्रैवल करने के बारे में सोच रही हैं या फिर अगर इमरजेंसी में भी कहीं जाना पड़े तो इन 5 टिप्स को फॉलो करें।

1. ट्रैवल पीरियड सही से चुनें

प्रेग्नेंसी के पहले ट्राइमेस्टर यानी 1-3 महीने के दौरान जी मिचलाना, मॉर्निंग सिकनेस और कई तरह की दिक्कतें होती हैं और इस दौरान किसी भी तरह का रिस्क भी नहीं लेना चाहिए। प्रेग्नेंसी के तीसरे ट्राइमेस्टर 6-9 महीने के दौरान बेबी बंप बड़ा हो जाता है और महिला के लिए बैठना, उठना सब थोड़ा मुश्किल हो जाता है। इस लिहाज से सेकंड ट्राइमेस्टर यानी 3-6 महीने का वक्त ट्रैवल के लिहाज से सही है।

2. ध्यान से चुनें डेस्टिनेशन

प्रेग्नेंसी के दौरान आप कहां ट्रैवल कर रहे हैं उस डेस्टिनेशन को भी ध्यान से चुनें। कोई पहाड़ी वाली जगह या सुनसान और शांत जगह न चुनें। आप जहां जा रहे हों वहां की हवा की क्वॉलिटी अच्छी हो, पीने का पानी सेफ हो, बीमारियों का खतरा न हो, आसपास डॉक्टर या हॉस्पिटल मौजूद हो।

3. स्नैक्स और फ्लूइड्स साथ में कैरी करें

आप फ्लाइट से ट्रैवल कर रहे हों, ट्रेन से या फिर कार से बेहद जरूरी है कि आप अपने हेल्दी स्नैक्स और फ्लूइड्स को साथ रखें। लंबे वक्त तक भूखे या प्यासे रहने से शरीर में डिहाइड्रेशन का खतरा हो सकता है। इसलिए अपना नाश्ता और खाने-पीने की चीजें हमेशा साथ रखें।

4. जहां तक संभव हो कम सामान पैक करें

प्रेग्नेंट महिला का शरीर जल्दी थक जाता है। लिहाजा जहां तक संभव हो अपने सूटकेस को हल्का रखें और कम सामान पैक करें। प्रेग्नेंसी के दौरान आपका स्ट्रेस फ्री रहना औऱ रिलैक्स करना ज्यादा जरूरी है। इसलिए भारी सूटकेस खींचने की बजाए, ट्रैवल लाइट।

5. डॉक्टर से अप्रूवल है जरूरी

ट्रिप प्लान करने से पहले अपने डॉक्टर से पूछना न भूलें। डॉक्टर से परमिशन मिलने के बाद ही प्रेग्नेंसी में ट्रैवल करने का प्लान बनाएं। इसके अलावा अपना मेडिकल किट साथ ले जाना न भूलें। आपकी प्रेग्नेंसी में खाने वाली दवाइयों के साथ डॉक्टर से पूछकर सर्दी, खांसी बुखार में खाई जाने वाली कॉमन दवाइयां भी जरूर साथ में रखें।

Share:

Link:

Start at:

92 views
Google AdSense 320 x 50
Google AdSense 300 x 250