Viral Photos and Videos, Lifestyle, Travel, Food and Fun -Brands
Instafeed

Happy Valentine's day 2020: जानिए 14 फरवरी को ही क्यों मनाया जाता है वैलेंटाइन डे

Happy Valentine's day 2020: जानिए 14 फरवरी को ही क्यों मनाया जाता है वैलेंटाइन डे

आज 14 फरवरी यानी कि वैलेंटाइन डे है। प्यार करने वालों के लिए ये दिन बहुत ही खास होता है। हर प्रेमी जोड़े को इस दिन का इंतजार बड़ी ही बेसब्री से रहता है। यूं कहें तो पार्टनर के प्रति अपना प्यार जाहिर करने के लिए इससे अच्छा और कोई दिन नहीं हो सकता है। इतना ही नहीं इस दिन को खास बनाने के लिए प्रेमी लोग कई दिन पहले से ही तैयारी में लग जाते हैं।

ऑरिया ऑफ जैकोबस डी वॉराजिन' नाम की पुस्तक में वैलेंटाइन का जिक्र है। यह डे एक रोम के पादरी संत वैलेंटाइन के नाम पर मनाया जाता है। बताया जाता है कि संत वैलेंटाइन दुनिया में प्यार को बढ़ावा देने में विश्वास रखते थे, लेकिन रोम में एक राजा को उनकी ये बात पंसद नहीं थी और वह प्रेम विवाह के खिलाफ थे। वह प्रेम विवाह को गलत मानते थे।

 प्यार को जिन्दा रखने के लिए चढ़े फांसी 

सम्राट क्लाउडियस को लगता था कि रोम के लोग अपनी पत्नी और परिवारों के साथ मजबूत लगाव होने की वजह से सेना में भर्ती नहीं हो रहे हैं। इस समस्या से निजात पाने के लिए क्लाउडियस ने रोम में शादी और सगाई पर पाबंदी लगा दी। पादरी वैलेंटाइन ने सम्राट के आदेश को लोगों के साथ नाइंसाफी के तौर पर महसूस किया। उन्होंने इसका विरोध करते हुए कई अधिकारियों और सैनिकों की शादियां भी कराई। इसके बाद उन्हें 14 फरवरी को फांसी पर चढ़ा दिया गया।

वैलेंटाइन के पास थी दिव्य शक्ति

जेल के अंदर वैलेंटाइन अपनी मौत का इंतजार कर रहे थे। एक दिन उनके पास जेलर आया। उसका नाम Asterius था। Rome के लोगों का कहना था वैलेंटाइन के पास एक दिव्य शक्ति थी जिसके इस्तेमाल से वह लोगों को रोगों से मुक्ति दिला सकता था। Asterius की बेटी अंधी थी। वह वैलेंटाइन के पास जाकर उनसे विनती करने लगा कि उसकी बेटी की आंखों की रोशनी वो अपने दिव्य शक्ति से ठीक कर दे। वैलेंटाइन एक नेक दिल इंसान थे। उन्होंने उसकी बेटी की आंखों को अपनी शक्ति से ठीक कर दिया उस दिन के बाद से वैलेंटाइन और उसकी बेटी के बीच गहरी दोस्ती हो गई और दोस्ती कब प्यार में बदल गयी पता नहीं चला।

जेलर की बेटी को लिखा था खत

संत वैलेंटाइन ने जेल में रहते हुए जेलर की बेटी को खत लिखा था, जिसमें अंत में उन्होंने लिखा था "तुम्हारा वैलेंटाइन।"उस दिन से हर साल इसी दिन को 'प्यार के दिन' के तौर पर मनाया जाता है और 14 फरवरी को लोग  चॉकलेट, गुलाब,गिफ्ट  दे कर अपने प्यार का इजहार करते हैं।हालांकि कई देशों में इसे संस्कृति के खिलाफ मानकर इसके सेलिब्रेशन पर रोक लगा दी जाती है।



Happy Valentine's day 2020: जानिए 14 फरवरी को ही क्यों मनाया जाता है वैलेंटाइन डे

आज 14 फरवरी यानी कि वैलेंटाइन डे है। प्यार करने वालों के लिए ये दिन बहुत ही खास होता है। हर प्रेमी जोड़े को इस दिन का इंतजार बड़ी ही बेसब्री से रहता है। यूं कहें तो पार्टनर के प्रति अपना प्यार जाहिर करने के लिए इससे अच्छा और कोई दिन नहीं हो सकता है। इतना ही नहीं इस दिन को खास बनाने के लिए प्रेमी लोग कई दिन पहले से ही तैयारी में लग जाते हैं।

ऑरिया ऑफ जैकोबस डी वॉराजिन' नाम की पुस्तक में वैलेंटाइन का जिक्र है। यह डे एक रोम के पादरी संत वैलेंटाइन के नाम पर मनाया जाता है। बताया जाता है कि संत वैलेंटाइन दुनिया में प्यार को बढ़ावा देने में विश्वास रखते थे, लेकिन रोम में एक राजा को उनकी ये बात पंसद नहीं थी और वह प्रेम विवाह के खिलाफ थे। वह प्रेम विवाह को गलत मानते थे।

 प्यार को जिन्दा रखने के लिए चढ़े फांसी 

सम्राट क्लाउडियस को लगता था कि रोम के लोग अपनी पत्नी और परिवारों के साथ मजबूत लगाव होने की वजह से सेना में भर्ती नहीं हो रहे हैं। इस समस्या से निजात पाने के लिए क्लाउडियस ने रोम में शादी और सगाई पर पाबंदी लगा दी। पादरी वैलेंटाइन ने सम्राट के आदेश को लोगों के साथ नाइंसाफी के तौर पर महसूस किया। उन्होंने इसका विरोध करते हुए कई अधिकारियों और सैनिकों की शादियां भी कराई। इसके बाद उन्हें 14 फरवरी को फांसी पर चढ़ा दिया गया।

वैलेंटाइन के पास थी दिव्य शक्ति

जेल के अंदर वैलेंटाइन अपनी मौत का इंतजार कर रहे थे। एक दिन उनके पास जेलर आया। उसका नाम Asterius था। Rome के लोगों का कहना था वैलेंटाइन के पास एक दिव्य शक्ति थी जिसके इस्तेमाल से वह लोगों को रोगों से मुक्ति दिला सकता था। Asterius की बेटी अंधी थी। वह वैलेंटाइन के पास जाकर उनसे विनती करने लगा कि उसकी बेटी की आंखों की रोशनी वो अपने दिव्य शक्ति से ठीक कर दे। वैलेंटाइन एक नेक दिल इंसान थे। उन्होंने उसकी बेटी की आंखों को अपनी शक्ति से ठीक कर दिया उस दिन के बाद से वैलेंटाइन और उसकी बेटी के बीच गहरी दोस्ती हो गई और दोस्ती कब प्यार में बदल गयी पता नहीं चला।

जेलर की बेटी को लिखा था खत

संत वैलेंटाइन ने जेल में रहते हुए जेलर की बेटी को खत लिखा था, जिसमें अंत में उन्होंने लिखा था "तुम्हारा वैलेंटाइन।"उस दिन से हर साल इसी दिन को 'प्यार के दिन' के तौर पर मनाया जाता है और 14 फरवरी को लोग  चॉकलेट, गुलाब,गिफ्ट  दे कर अपने प्यार का इजहार करते हैं।हालांकि कई देशों में इसे संस्कृति के खिलाफ मानकर इसके सेलिब्रेशन पर रोक लगा दी जाती है।

Share:

Link:

Start at:

90 views
Google AdSense 320 x 50
Google AdSense 300 x 250