Viral Photos and Videos, Lifestyle, Travel, Food and Fun -Brands
Instafeed

पुलवामा अटैक: इश्क के इजहार के दिन खेला गया खूनी खेल, यूं दिया आतंकी हमले को अंजाम!

पुलवामा अटैक: इश्क के इजहार के दिन खेला गया खूनी खेल, यूं दिया आतंकी हमले को अंजाम!

14 फरवरी 2019। उस वक्त देश-दुनिया में मोहब्बत की ये तारीख मनाई जा रही थी। लोग प्यार का इजहार कर रहे थे। उसी वक्त इंसानियत और मोहब्बत के दुश्मनों ने अपनी नापाक हरकत को अंजाम दे दिया। इस आतंकी हमले में 40 जवान असमय काल के गाल में समां गए। पूरा देश थर्रा उठा। गम और उदासी के बीच मौत की चीत्कार कलेजा छलनी कर रही थी। हर तरफ से बदले की मांग होने लगी। शहादत के बदले आतंकियों का सिर चाहिए, ऐसा हर भारतीय कहने लगा। लोग में गम और गुस्सा दोनों भरा हुआ था। आइए जानते हैं कि आखिर उस दिन ये वारदात हुई कैसे थी? आतंकियों ने हमारे जवानों को कैसे निशाना बनाया था।

14 फरवरी 2019 को जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर करीब 2500 जवानों को लेकर 78 बसों में सीआरपीएफ का काफिला गुजर रहा था। हर रोज़ की तरह उस दिन भी जवानों काफिला वहां से गुज़र रहा था, लेकिन क्या पता था की कुछ ही मिनटों बाद सब कुछ एकदम से बदलने वाला था। हर रोज़ की तरह जवानों का काफिला पुलवामा पहुंचा ही था कि इतने में सड़क के दूसरी तरफ से विस्फोटकों से बहरी कार ने जवानों की बस में टक्कर मार दी। जब तक जवान कुछ समझ पाते या कुछ करने का सोचते तब तक सब कुछ खत्म हो चुका था। गाड़ी से टक्कर लगने के बाद बस में बैठे जवानों के चीथड़े उड़ गए। इस विस्फोट में सैकड़ों की संख्या में जवान घायल हो गए।


आतंकियों द्वारा किया गया हमला इतना भयावह था कि कुछ समय तक सब कुछ धुआं-धुआं हो गया। हर तरफ जवानों की लाशें पड़ी थी। हर तरफ कौन ही खून नज़र आ रहा था। उस दिन पुलवामा में हमारे 40 जवानों ने अपना जीवन अपनी मातृभूमि को सौंप दिया था।  


इस वारदात को आदिल अहमद डार नामक आतंकी ने अंजाम दिया था। आदिल अहमद डार ने आत्मघाती हमला किया था। पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस आतंकी हमले की जिम्मेदारी ली। जवानों की शहादत से पूरा देश गम में डूब गया। जिन माताओं के बेटे शहीद हुए उनका रोरो कर बुरा हाल था, लेकिन इसके बावजूद परिजनों ने अपने शहीद बेटे को सलाम किया।  इतनी बड़ी घटना होने के बाद पूरे देश की जुबान पर सिर्फ एक ही बात थी। हर कोई चाहता था की इस हमले का बदला भी ऐसे ही लेना है एक एक आतंकवादी को मार गिराना है। हुआ भी कुछ ऐसा ही उस हमले के कुछ दिनों बाद भारत ने पाकिस्तानी क्षेत्र में जाकर एयरस्ट्राइक किया।

26 फरवरी 2019  को हमारी भारतीय सेना ने पाकिस्तान स्थित बालाकोट में  जैश-ए-मोहम्मद कै ठिकानों पर एयरस्ट्राइक कर दी। जब एयरस्ट्राइक हुई उस वक्त पकिस्तान चैन की नींद सो रहा था। इसमें जवानों ने जमकर बमबारी की और हमले में लगभग 300 आतंकवादियों को मार गिराया गया। ये बदला था पुलवामा अटैक का। इस हमले के बाद दोनों देशों में तनातनी बढ़ी। पुलवामा अटैक में जितने भी आतंकवादी शामिल थे, धीरे धीरे करके सब को मार दिया गया।



पुलवामा अटैक: इश्क के इजहार के दिन खेला गया खूनी खेल, यूं दिया आतंकी हमले को अंजाम!

14 फरवरी 2019। उस वक्त देश-दुनिया में मोहब्बत की ये तारीख मनाई जा रही थी। लोग प्यार का इजहार कर रहे थे। उसी वक्त इंसानियत और मोहब्बत के दुश्मनों ने अपनी नापाक हरकत को अंजाम दे दिया। इस आतंकी हमले में 40 जवान असमय काल के गाल में समां गए। पूरा देश थर्रा उठा। गम और उदासी के बीच मौत की चीत्कार कलेजा छलनी कर रही थी। हर तरफ से बदले की मांग होने लगी। शहादत के बदले आतंकियों का सिर चाहिए, ऐसा हर भारतीय कहने लगा। लोग में गम और गुस्सा दोनों भरा हुआ था। आइए जानते हैं कि आखिर उस दिन ये वारदात हुई कैसे थी? आतंकियों ने हमारे जवानों को कैसे निशाना बनाया था।

14 फरवरी 2019 को जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर करीब 2500 जवानों को लेकर 78 बसों में सीआरपीएफ का काफिला गुजर रहा था। हर रोज़ की तरह उस दिन भी जवानों काफिला वहां से गुज़र रहा था, लेकिन क्या पता था की कुछ ही मिनटों बाद सब कुछ एकदम से बदलने वाला था। हर रोज़ की तरह जवानों का काफिला पुलवामा पहुंचा ही था कि इतने में सड़क के दूसरी तरफ से विस्फोटकों से बहरी कार ने जवानों की बस में टक्कर मार दी। जब तक जवान कुछ समझ पाते या कुछ करने का सोचते तब तक सब कुछ खत्म हो चुका था। गाड़ी से टक्कर लगने के बाद बस में बैठे जवानों के चीथड़े उड़ गए। इस विस्फोट में सैकड़ों की संख्या में जवान घायल हो गए।


आतंकियों द्वारा किया गया हमला इतना भयावह था कि कुछ समय तक सब कुछ धुआं-धुआं हो गया। हर तरफ जवानों की लाशें पड़ी थी। हर तरफ कौन ही खून नज़र आ रहा था। उस दिन पुलवामा में हमारे 40 जवानों ने अपना जीवन अपनी मातृभूमि को सौंप दिया था।  


इस वारदात को आदिल अहमद डार नामक आतंकी ने अंजाम दिया था। आदिल अहमद डार ने आत्मघाती हमला किया था। पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस आतंकी हमले की जिम्मेदारी ली। जवानों की शहादत से पूरा देश गम में डूब गया। जिन माताओं के बेटे शहीद हुए उनका रोरो कर बुरा हाल था, लेकिन इसके बावजूद परिजनों ने अपने शहीद बेटे को सलाम किया।  इतनी बड़ी घटना होने के बाद पूरे देश की जुबान पर सिर्फ एक ही बात थी। हर कोई चाहता था की इस हमले का बदला भी ऐसे ही लेना है एक एक आतंकवादी को मार गिराना है। हुआ भी कुछ ऐसा ही उस हमले के कुछ दिनों बाद भारत ने पाकिस्तानी क्षेत्र में जाकर एयरस्ट्राइक किया।

26 फरवरी 2019  को हमारी भारतीय सेना ने पाकिस्तान स्थित बालाकोट में  जैश-ए-मोहम्मद कै ठिकानों पर एयरस्ट्राइक कर दी। जब एयरस्ट्राइक हुई उस वक्त पकिस्तान चैन की नींद सो रहा था। इसमें जवानों ने जमकर बमबारी की और हमले में लगभग 300 आतंकवादियों को मार गिराया गया। ये बदला था पुलवामा अटैक का। इस हमले के बाद दोनों देशों में तनातनी बढ़ी। पुलवामा अटैक में जितने भी आतंकवादी शामिल थे, धीरे धीरे करके सब को मार दिया गया।

Share:

Link:

Start at:

10 views
Google AdSense 320 x 50
Google AdSense 300 x 250